सोमवार, 19 जुलाई 2010

कप्तान की बातें

याद आएँगी हमें कप्तान की बातें ।
नेक दिल सच्चे भले इंसान की बातें ।
डूब जाते थे सदा जो काम में अपने ,
पर नहीं डूबे कभी भी जाम में अपने ।
मस्त मौला आदमी की आन की बातें ।
खेल का मैदान हो या रेल का परिसर ,
बात समता की कही हर हाल में अक्सर ।
प्यार ही बांटा न की अपमान की बातें ।
बात दुःख -सुख की रही या बात पीने की ,
साथ मरने की रही या साथ जीने की ,
ईमान से करे रहे ईमान की बातें ।
जानते थे ये सभी को नाम से उनके ,
साथ चल देते हमेशा काम से उनके ,
अजनबी के साथ भी पहचान की बातें ।
अज्ज जब पहना रहे हैं हां फूलों का ,
एक विनती है न रखना ख्याल भूलों का ,
माफ़ कर देना सभी विषपान की बातें ।
आप जैसे भी जहां जिस हाल में भी हों ,
उम्र के गुजरे हुए जिस साल में भी हों ,
काम आयें आपके भगवान् की बातें .

1 टिप्पणी:

  1. हिंदी ब्लॉग लेखकों के लिए खुशखबरी -


    "हमारीवाणी.कॉम" का घूँघट उठ चूका है और इसके साथ ही अस्थाई feed cluster संकलक को बंद कर दिया गया है. हमारीवाणी.कॉम पर कुछ तकनीकी कार्य अभी भी चल रहे हैं, इसलिए अभी इसके पूरे फीचर्स उपलब्ध नहीं है, आशा है यह भी जल्द पूरे कर लिए जाएँगे.

    पिछले 10-12 दिनों से जिन लोगो की ID बनाई गई थी वह अपनी प्रोफाइल में लोगिन कर के संशोधन कर सकते हैं. कुछ प्रोफाइल के फोटो हमारीवाणी टीम ने अपलोड.......

    अधिक पढने के लिए चटका (click) लगाएं




    हमारीवाणी.कॉम

    उत्तर देंहटाएं